राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग | What is National Commission for OBC in Hindi


Rashtriy Pichhada Varg Aayog | OBC आयोग | NCBC आयोग MPPSC/UPSC

 
राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग , rashtriy pichda varg aayog hindi , ncbc in hindi , national obc aayog
राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग 


                नमस्कार दोस्तों , आज MPPSC के Unit -10 से सम्बंधित राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग  (NCBC - National Commission for Backward Class ) को Mppsc Material की Team द्वारा लाया गया है | पिछले Syllabus में आयोग की जगह OBC act को रखा गया था | इस बार हमें अधिनियम के स्थान पर आयोग दिया गया है | अतः हम इसका विस्तृत अध्ययन करेंगे क्योंकि यह परीक्षा के दृष्टिकोण महत्त्व रखता है | तो चलिए जानते है – Rashtiry Pichhda Varg Aayog क्या है ? 


नोट -  OBC आयोग को ही वर्तमान में NCBC आयोग कहा जाता है | 



NCBC आयोग की भूमिका/परिचय –


  • अनुच्छेद -340 – इसमें राष्ट्रपति को ST/SC समूह से अलग वे समूह जो पिछड़े है , उनके मूल्यांकन के लिए आयोग गठित करने का अधिकार दिया गया है | 
  • इसी अनुच्छेद में दिए गए अधिकार का अनुसरण करते हुए 2 बार राष्ट्रपति द्वारा अस्थायी पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन किया गया |
  • वर्ष 1953 में राष्ट्रपति ने काका कालेकर आयोग का गठन किया | इस आयोग की मुख्य सिफारिशें निम्न थी –

  1. OBC नाम की एक अलग Category बनायीं जाये |
  2. 2000 से अधिक पिछड़ी जातियों का मूल्यांकन किया तथा OBC Category  में रखने की सिफारिश की |
  3. सरकारी नौकरियों में प्रथम श्रेणी में 25% , द्वितीय में 33% तथा तृतीय में 40% आरक्षण की सिफारिश की 
  4. इस आयोग की सिफारिशें लागू नहीं की गई |

  • वर्ष 1978 में मंडल आयोग का गठन किया गया | इसके अध्यक्ष बी.पी. मंडल (बिन्धेश्वर प्रसाद मंडल) तथा अन्य 4 सदस्य थे | इसकी मुख्य सिफारिशें निम्न थी –

  1. इसने 3000 से अधिक पिछड़ी जातियों का चयन किया |
  2. पिछड़ी जातियों के लिए 27% आरक्षण की मांग की |


  • सन 1990 में V.P. सिंह की सरकार ने मंडल आयोग की सिफारिश को माना तथा OBC को 27% आरक्षण दे दिया |
  • सन 1992 में इंद्रा साहनी बनाम भारतीय संघवाद मामले में इस 27% आरक्षण को चुनौती दी गई |
  • 1992 में सुप्रीम कोर्ट ने अपना निर्णय देते हुए आरक्षण को वैध ठहराया तथा पिछड़ा वर्ग आयोग के गठन का निर्देश दिया |
  • सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का पालन करते हुए राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग अधिनियम 1993 के अधीन OBC के लिए एक आयोग का गठन किया गया | चूँकि अधिनियम के माध्यम से इसकी स्थापना की गई अतः यह 2018 तक एक वैधानिक आयोग के रूप में कार्य करता रहा |
  • 2018 के पहले इस आयोग को केवल OBC की श्रेणी में किसी जाति को शामिल किये जाने का अधिकार था , परन्तु उसे ST/SC आयोग की तरह OBC जातियों से होने वाले भेदभाव तथा अन्य अपराधो की सुनवाई का अधिकार नहीं था |
  • अतः भारत सरकार द्वारा 2018 में आयोग की शक्ति का विस्तार करते हुए 102 वां संविधान संशोधन 2018 किया गया तथा राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को अनुच्छेद 338(B) के तहत संवैधानिक दर्जा प्रदान किया गया है |   
  • साथ ही 102वें संविधान संशोधन द्वारा अनुच्छेद 342(A) को जोड़ा गया है , जिसके अनुसार राष्ट्रपति द्वारा किसी राज्य अथवा केंद्र शासित प्रदेश के जाति समूह को (जो सामाजिक और शैक्षिणक रूप से पिछड़े है) को OBC की श्रेणी में डाला जा सकता है | इसके लिए वह सम्बंधित राज्य के राज्यपाल से परामर्श लेता है |



राष्ट्रीय अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग –


    NCBC आयोग स्थापना –


                संविधान के भाग-16 के अनुच्छेद -338(B) के अंतर्गत इस आयोग को संवैधानिक निकाय का दर्जा प्राप्त है | यह 102 वें संविधान संशोधन 2018 द्वारा संवैधानिक दर्जा प्राप्त है |


    NCBC आयोग संरचना –


                1 अध्यक्ष + 1 उपाध्यक्ष + 3 सदस्य 



    NCBC आयोग नियुक्ति / सेवा शर्ते – 


  • राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष , उपाध्यक्ष तथा अन्य सदस्यों की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है |
  • OBC आयोग की सेवा शर्तो का निर्धारण भी राष्ट्रपति द्वारा किया जाता है |
  • आयोग का वेतन भत्ते भारत सरकार के सचिव के समान होंगे |



    NCBC आयोग पदावधि – 


  • आयोग के अध्यक्ष , उपाध्यक्ष तथा अन्य सदस्यों की नियुक्ति 3 वर्ष के लिए की जाती है |
  • इनमे से ये सभी पुनर्नियुक्ति के लिए पात्र होते है , परन्तु कोई भी 2 बार से अधिक नियुक्ति के पात्र नहीं है |


    NCBC आयोग त्यागपत्र/पद से हटाना –

  • OBC आयोग के अध्यक्ष , उपाध्यक्ष तथा सदस्य अपना त्यागपत्र राष्ट्रपति को देते है |
  • इसके अतिरिक्त आयोग के सदस्यों को निम्न स्तिथि में राष्ट्रपति द्वारा हटाया जा सकता है –

  1. दिवालिया घोषित होने पर |
  2. पदावधि के समय अन्य लाभ के पद पर पाए जाने पर |
  3. शारीरिक अथवा मानसिक रूप से कार्य करने के लिए असक्षम पाए जाने पर |
  4. यदि आयोग की बैठको में लगातार 3 बार तक अनुपस्थित होने पर |

  आयोग के सदस्यों को उपरोक्त कारणों से हटाये जाने से पहले सुनवाई का पूर्ण अधिकार दिया गया है |



    NCBC आयोग योग्यताएं –


  • आयोग के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष तथा सदस्यों के रूप में उन व्यक्तियों को पद दिया जाता है , जो स्वयं सामाजिक तथा शैक्षणिक रूप से पिछड़ी जाति (OBC) से समबन्धित हो |
  • साथ ही पिछड़ी जातियों को न्याय दिलाने तथा पिछड़ी जातियों से सम्बंधित सामाजिक सेवा का कार्य किया हो |  
  • अन्य 3 तीन सदस्यों में से कम से कम 1 महिला सदस्य होना आवश्यक है | 



    NCBC आयोग का मुख्यालय –


                राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग का मुख्यालय नई दिल्ली में है | 



    NCBC आयोग को शक्तियां –


  • NCBC आयोग की शक्तियां सिविल न्यायालय की शक्तियां प्राप्त है | 


नोट – सिविल न्याय के समान किस तरह की शक्ति प्राप्त होती है , इसके बारे में हमने पिछले आयोग – बाल अधिकार संरक्षण आयोग में पढ़ा है |



    NCBC आयोग के कार्य –


  1. OBC के संरक्षण से सम्बंधित विषयों की जाँच तथा निगरानी करना |
  2. OBC के अधिकारों के हनन से सम्बंधित किसी विशेष शिकायतों को जाँच करना |
  3. OBC के कल्याण के सम्बन्ध में परामर्श सरकार और राष्ट्रपति को देना |
  4. नई जातियो को अनुच्छेद 342(A) के अंतर्गत शामिल करने के लिए राष्ट्रपति को सलाह देना |
  5. OBC के विकास के लिए कार्यरत रहना , इस आयोग का मुख्य कार्य है |



    NCBC आयोग की रिपोर्ट –


  • OBC आयोग द्वारा अपनी रिपोर्ट राष्ट्रपति तथा किसी राज्य से सम्बंधित होने पर राज्यपाल को भेजी जाती है |
  • राष्ट्रपति / राज्यपाल द्वारा रिपोर्ट को संसद / विधानमंडल में रखा जाता है |
  • रिपोर्ट में दी गई सलाह केवल सलाहकारी प्रक्रति की होती है | अतः इन्हें मानने के लिए संसद/विधानमंडल बाध्य नहीं है |
  • केवल सलाह न मानने का कारण संसद/विधानमंडल के द्वारा बताना होता है |


    वर्तमान तथा पूर्व NCBC आयोग –


  • NCBC आयोग के वर्तमान अध्यक्ष – डॉ. भगवान लाल साहनी |
  • NCBC आयोग के वर्तमान उपाध्यक्ष – डॉ. लोकेश कुमार प्रजापति |
  • NCBC आयोग के प्रथम अध्यक्ष – आर.एन. प्रसाद  |


rashtriy pichda varg aayog adhyaksh list , 3rd commission of ncbc
OBC Commission list hindi



            

                आशा करता हूँ कि Rashtriy Pichhada Varg Aayog - OBC Aayog in hindi mppsc पूरी तरह समझ आ गया होगा | किसी भी प्रकार की समस्या होने पर आप हमें Comment Box में बता सकते है | हमारी Team द्वारा आपकी समस्या को निवारण करने का पूर्ण प्रयास किया जायेगा | आपको यह Post कैसी लगी , अपना फीडबैक Comment में जरुर देवें और इसे अपने दोस्तों को जरुर share करें |


इन्हें भी पढ़ें -

राष्ट्रीय महिला आयोग 

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC in Hindi)

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC)

इजरायल और फिलिस्तीन का विवाद क्या है ?


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

पोस्ट को ध्यान से पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद् | आप अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दे सकते है |